ताज़ा खबरेंमध्य प्रदेश

प्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश के आसार, ऑरेंज-येलो अलर्ट जारी

भोपाल। मध्यप्रदेश में झमाझम बारिश का दौर तेजी से जारी है, नदी-नाले उफान पर आ गए है, लगातार बारिश से सड़कों और इलाके में जल भराव की स्थिति बनने लगी है, बारिश के इस कहर के कारण बरगी और बाणसागर बांध के गेट खोले गए है। मौसम विभाग (weather department) ने आज बुधवार को एक बार फिर प्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। विभाग द्वारा येलो-ऑरेंज अलर्ट (yellow-orange alert) एक साथ जारी किया गया है।

मौसम विभाग की माने तो बंगाल की खाड़ी में बुधवार को फिर एक और कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। इस सिस्टम का असर प्रदेश में कम पड़ेगा, लेकिन इसका असर गुरुवार से ज्यादा होने से राज्य में अगले दो तीन दिनों तक कई स्थानों पर अति भारी बारिश की संभावना है। इस सिस्टम के बनने से प्रदेश भर में एक सप्ताह तक हल्की से मध्यम बारिश का सिलसिला बना रह सकता है। मानसून ट्रफ आज की तारीख में उत्तरप्रदेश के आगरा से होते हुए बंगाल की खाड़ी तक जा रही है। यह ट्रफ लाइन कल तक और नीचे आने की संभावना है।

पिछले चौबीस घंटों का जिलों का हाल

पिछले 24 घंटे की बात करे तो जबलपुर के 13 बरगी गेट खुलने के बाद नरसिंहपुर जिले में नर्मदा का जल स्तर तेजी से बढ़ रहा है। जबलपुर नरसिंहपुर स्टेट हाइवे क्रमांक 22 पर पुलिस ने वाहनों की आवाजाही बंद कराने कार्रवाई शुरू कर दी है, हालांकि बरगी के गेट खुलने की सूचना आने के बाद जिले में नर्मदा से लगे गांवों में प्रशासन द्वारा सुरक्षित रहने मुनादी कराई गई थी। इसे देखते हुए सिवनी, मंडला, नरसिंहपुर, होशंगाबाद, सीहोर, खरगोन और कटनी जिलों को हाईअलर्ट कर दिया गया है। वही शहडोल लगातार हो रही बारिश को देखते हुए बाणसागर के 16 गेट डेढ़ मीटर खोल दिए गए हैं। 17 सितंबर को सुबह 7 बजे 6 गेट आधा मीटर खोले गए थे, उसी दिन रात को 8 बजे 8 गेट खोले गए और अब 16 गेट खोल दिए गए हैं, जिसके बाद उत्तरप्रदेश और बिहार की नदियों में बाणसागर बांध का पानी पहुंच रहा है, इससे दोनों राज्यों में बाढ़ जैसी स्थिति बन रही है।

जारी रहेगा बारिश का सिलसिला

मौसम विभाग की माने तो 19 से 21 अगस्त के बीच मध्यप्रदेश के 15 जिलों में भारी वर्षा हो सकती है। कुछ इलाकों में जनजीवन प्रभावित हो सकता है। अतः अपनी योजनाएं चेतावनी को ध्यान में रखते हुए बनाएं। बंगाल की खाड़ी में एक और कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है, इसके असर के चलते प्रदेश भर के कई जिलों में तेज बारिश होने के आसार हैं, अगर यह सिस्टम भोपाल के नजदीक से गुजरा तो 20 अगस्त के बाद भोपाल में भी अच्छी बारिश होने के आसार हैं।आने वाले 1 से 2 दिनों में जबलपुर, सागर संभाग के जिलों के साथ विदिशा, रायसेन जिला में अति भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है ।

बीते चौबीस घंटे का रिकॉर्ड
बीते चौबीस घंटों में दो दर्जन से अधिक स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा दर्ज की गई। दूसरे स्थानों की तुलना में पचमढ़ी में सबसे अधिक वर्षा दर्ज की गई। यहां 49 मिलीमीटर दर्ज हुई है। इसके अलावा टीकमगढ़ में 52 मिमी, जबलपुर 41.5 मिमी, खंडवा में 33, सागर में 32 मिमी, उमरिया 31 मिमी, दतिया में 28 मिमी, खरगोन में 23 मिमी, खजुराहो में 13 मिमी, गुना में 16.6 मिमी दर्ज हुई है। इसके साथ हीशाजापुर, उज्जैन, रतलाम, भोपाल, छिंदवाड़ा, होशंगाबाद, बैतूल, सतना, रीवा, इंदौर, ग्वालियर, रायसेन, मलाजखंड, नरसिंहपुर, मंडला, धार जिले में एक से 10 मिमी के बीच वर्षा दर्ज की गई।

इन जिलों को अब भी अच्छी बारिश का इंतजार
छतरपुर, कटनी नरसिंहपुर, सागर, टीकमगढ़, धार, गुना होशंगाबाद, शाजापुर

इन जिलों में अति भारी बारिश का अलर्ट (ऑरेंज अलर्ट)
अलीराजपुर, झाबुआ, धार

इन जिलों भारी बारिश की चेतावनी
हरदा, खंडवा, रतलाम, अनूपपूर, डिंडौरी, छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला, बालाघाट, दमोह, छतरपुर जिलों में भारी बारिश की चेतावनी  हैं।

Related Articles

Back to top button
x

COVID-19

India
Confirmed: 7,909,959Deaths: 119,014
Close
Close