अपराधसागर

ब्रेकिंग न्यूज- स्मार्ट बेल्यू कंपनी गरीब छात्र-छात्राओं के साथ कर रही थी ठगी 

कंपनी के स्थानीय प्रबंधक वृंदावन अहिरवार सहित 7 लोगों को पुलिस ने बीच सड़क व ऑफिस से दबोचा सभी से पूछताछ जारी                                      
अनुविभागीय अधिकारी कु. पूजा शर्मा के निर्देशों पर भी कारवाई  
आशीष दुबे (सागर) देवरी कलारोजगार के नाम पर झूठे सपने दिखाकर ए पी एल एल स्मार्ट बेल्यू नाम की प्रोडेक्ट कम्पनी द्वारा देवरी क्षेत्र में करीब 200 छात्र छात्राओं को नौकरी लगवाने के नाम पर प्रति व्यक्ति 15 हजार रुपये लेकर कम्प्यूटर के फर्जी प्रमाण पत्र  देकर नौकरी लगवाने का झासा देकर गुमराह किया गया। जिनमें से दो बच्चे नावालिक है उनको भी कम्प्यूटर डिप्लोमा व नौकरी के नाम पर गुमराह किया गया। जबकि जो प्रमाण पत्र व रजिस्ट्रेशन कम्पनी का है न कि किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज का रजिस्ट्रेशन में प्रोडेक्ट कम्पनी के सामान को सेल करने का कार्य लिखा गया है। जबकि कम्प्यूटर डिप्लोमा के नाम पर छात्र – छात्राओं को गुमराह करते हुये लाखों रुपये कमाने की बात करके उनका विश्वास जीतकर झूठे सपने दिखाये जा रहे थे। क्षेत्र के अधिकतर ऐसे बच्चों को गुमराह किया गया जो अनुसूचित जाति व जनजाति वर्ग से है और बहुत गरीब स्थिति के है उनको कम्पनी में जोड़कर अन्य और बच्चों को लाने पर प्रति छात्र पर उसे लाने वाले बच्चे को एक हजार दिया जाता था। इस फर्जीवाड़ा में पता लगा कि सागर हेड रोमन यादव है वह देवरी क्षेत्र के हेड वृंदावन अहिरवार है जो टीकमगढ़ के निवासी है जिसमे इनके द्वारा देवरी के गांधी वार्ड में व गौरझामर केसली में भी ऑफिस बनाकर एससी एसटी के गरीब छात्र – छात्राओं को गुमराह करके फर्जी तरीके से लाखों रुपया वसूले गये। जिसकी खबर समाचार पत्रों में छपने से मामला उजागर होते एसडीओपी कुमारी पूजा शर्मा द्वारा मामले में तुरंत एक्सन लेकर फर्जी बने ऑफिस पर कार्यवाही कराकर देवरी क्षेत्र हेड वृन्दावन अहिरवार जो टीकमगढ़ का निवासी है उसको रास्ते में पुलिस द्वारा भागते हुये धर दबोच लिया व सागर हेड रोमन यादव मौके से फरार व सभी ऑफिस के अन्य करीब छ से सात छात्रों को ऑफिस से थाने बुलाकर पूछताछ की गई कम्पनी के देवरी हेड वृन्दावन से सभी कागज बुलवाये गये जांच के लिये जिसमें पुलिस निम्न बिंदुओं पर जांच चल रही है।
इस सम्बंध में सागर एसपी अतुल सिंह का कहना है – पूरे मामले की जांच कर पूरे कम्पनी के कागजो की जांच की जायेगी यदि ठगी का मामला है और फर्जी तरीके से कार्य कर बच्चों को गुमराह कर पैसे वसूले गये है तो मामला दर्ज कराया जायेगा। में देवरी एसडीओपी से पूरे मामले में प्रतिवेदन मागता हूं l”

Related Articles

Back to top button
x

COVID-19

India
Confirmed: 7,909,959Deaths: 119,014
Close
Close