2021-03-04
a
मध्य प्रदेश

कलम बंद हड़ताल पर गए जनसंपर्क अधिकारी, खंडवा कलेक्टर के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर सीपीआर को सौंपेंगे ज्ञापन

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

खंडवा। कलेक्टर अनय द्विवेदी द्वारा जिला जनसंपर्क अधिकारी ब्रजेंद्र शर्मा को भोपाल के लिए रिलीव करने और इस आदेश के बाद संभागायुक्त डॉ. पवन शर्मा द्वारा ब्रजेश शर्मा को निलंबित करने से नाराज प्रदेश भर के जनसपंंपर्क अधिकारी (PRO) सोमवार से कलमबंद हड़ताल पर चले गए हैं। राज्य जनसंपर्क अधिकारी संघ के अध्यक्ष अरुण राठौर ने कहा ये दोनों ही आदेश नियम खिलाफ हैं, जब तक पीआरओ ब्रजेश शर्मा को सेवा में नहीं लिया जाता और खंडवा कलेक्टर व इंदौर कमिश्नर के खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी, तब तक राजभवन से लेकर सीएम हाउस और जिलों तक कलम बंद हड़ताल जारी रहेगी। जनसंपर्क अधिकारियों का एक प्रतिनिधि मंडल आज दोपहर बाद सीपीआर सुदाम खाड़े को इस संबंध में ज्ञापन सौंपेंगा। बता दें कि खंडवा कलेक्टर द्वारा जनसंपर्क अधिकारी को असंवैधानिक तरीके से ट्रांसफर करने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। सरकारी किरकिरी उड़ी तो कलेक्टर के बचाव में इंदौर कमिश्नर डॉ. पवन शर्मा उतर आए। उन्होंने रविवार को छुट्टी के दिन देर रात पीआरओ बृजेंद्र शर्मा को सस्पेंड कर दिया। वजह बताई गई कि वह मंत्री के दौरों का कवरेज नहीं करते थे। खंडवा कलेक्टर ने जिला जनसंपर्क अधिकारी के परफार्मेंस से नाखुश होकर उन्हें तत्काल प्रभाव से भोपाल के लिए रिलीव करने के साथ वाहन भी छीन लिया था। कलेक्टर का यह आदेश नियम के खिलाफ इसलिए था कि जनसंपर्क विभाग मुख्यमंत्री के पास है, ऐसे में कलेक्टर की यह कार्रवाई अनुचित थी।

पीआरओ ब्रजेश शर्मा को निलंबित किए जाने आदेश।

दरअसल, इस अनुचित कार्रवाई के बाद संभागायुक्त डॉ. पवन शर्मा द्वारा ब्रजेश शर्मा को निलंबित करना इसलिए अविवेकपूर्ण-अनुचित हो गया कि कलेक्टर ने जिस अधिकारी को भोपाल के लिए रिलीव कर दिया। उसे निलंबित करने का अधिकार क्षेत्र कमिश्नर के दायरे में नहीं आता है।

2021-03-04
a

Related Articles

Back to top button
x

COVID-19

India
Confirmed: 29,359,155Deaths: 367,081
Close
Close