2021-03-04
a
सागर

जमीनी विवाद में गर्भवती महिला से मारपीट, बच्चे की मौत

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
आशीष दुबे देवरी कला। गत दिवस ग्राम पंचायत सिंगपुर गंजन के फूटा ताल गांव में जमीनी विवाद के चलते गर्भवती महिला के साथ मारपीट की घटना के बाद सागर की डफरिन अस्पताल में आजन्मे बच्चे की मौत के मामले में नया मोड़ आया है। इस संबंध में विनीता पति लीलाधर पटेल उम्र 30 साल ने पुलिस अधीक्षक सागर को एक आवेदन देकर उनके साथ हुई घटना में साक्ष को फेरबदल करने के प्रयासों की शिकायत की है। आवेदन के अनुसार 3 जून को सबजानी पारदी द्वारा उनकी जेठानी के साथ हुई छेड़छाड़ की घटना के बाद पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी इस बात से नाराज लोटस पारदी, सबजानी पारदी, अरविंद पारदी पप्पू एवं पोजाम पारदी ने विनीता के घर में घुसकर लाठी और लात घूसों से मारपीट कर दी थी जिससे गर्भवती विनीता के पेट में चोट लगने से वह बेहोश हो गई थी और जिसे घटना के प्रत्यक्षदर्शी करोड़ी सेन ने मौके पर पहुंचकर महिला की जान बचाई और डायल हंड्रेड को फोन करके देवरी अस्पताल लेकर आए जहां डॉक्टरों ने महिला की गंभीर स्थिति को देखते हुए कहा कि गर्भवती महिला को सागर के लिए रेफर कर दिया था। 6 जून को विनीता के परिजन सागर गए जहां उन्होंने डॉक्टर के कहने पर सोनोग्राफी कराई और सोनोग्राफी रिपोर्ट में बच्चे के मृत होने की जानकारी लगने के बाद वापस देवरी आ गए और सुबह 7 जून को फिर से सागर गए और डफरिन अस्पताल में भर्ती कराया जहां डॉक्टरों ने रिपोर्ट देखकर गर्भपात कराने के लिए इलाज शुरू कर दिया और 8 जून की रात्रि करीब 9:30 बजे गर्भपात के दौरान मृत बच्ची को विनीता के गर्भ से बाहर निकाला जिसमें म्रत बच्चे के पेट में काले नीले निशान बने हुए थे इसके बाद अस्पताल में परिजनों को जब दबाव बनाकर भगाया जाने लगा तब मामला तूल पकड़ गया और मामले की खबर अखबारों में छपने के बाद सोनोग्राफी सेंटर के संचालक डफरिन अस्पताल में फरियादी के यहां पहुंचे और उसकी फाइल में लगी सोनोग्राफी रिपोर्ट कार्ड निकाल कर फाड़ कर फेंक कर चले गए जब परिजनों ने सोनोग्राफी रिपोर्ट मांगी तो उन्होंने 30 हजार रुपये मांगे फरियादी ने बताया कि उन्होंने राज डायग्नोस्टिक सेंटर से 6 जून को सोनोग्राफी कराई थी लेकिन रिपोर्ट कार्ड में सोनोग्राफी संचालक ने हैंडराइटिंग के द्वारा 4 जून की तारीख में रिपोर्ट दी है और वह भी फाड़ कर फेंक दी जबकि 4 जून को महिला गांव पर थी और सोनोग्राफी कराने भी वह नहीं गई थी जबकि सोनोग्राफी सेंटर में जो सोनोग्राफी की फिल्म है उसमें कंप्यूटराइज्ड तारीख 6 जून प्रदर्शित हो रही है जिसमें समय दोपहर 11:20 दर्शाया जा रहा है। 
इस संबंध में सोनोग्राफी सेंटर के संचालक डॉ. राजेंद्र जैन का कहना है कि मुझे इस संबंध में कोई जानकारी याद नहीं है। इस मामले में फरियादी ने पुलिस अधीक्षक से मांग की है कि आरोपियों द्वारा मामले को कमजोर करने के लिए सोनोग्राफी सेंटर से मिलकर 6 जून की रिपोर्ट को गायब कर दिया है और फर्जी ढंग से 4 जून की रिपोर्ट दर्शाई जा रही है जिस पर जांच की जाए और सोनोग्राफी करने वाले पर कार्यवाही की जाए।
2021-03-04
a

Related Articles

Back to top button
x

COVID-19

India
Confirmed: 31,484,605Deaths: 422,022
Close
Close